त्रिपुरा में कोई उग्रवादी संगठन सक्रिय नहीं : पुलिस प्रमुख

By Jagatvisio :05-12-2017 07:35


अगरतला । त्रिपुरा में कोई उग्रवादी संगठन सक्रिय नहीं है। हालांकि प्रदेश के उग्रवादी संगठनों में से कुछ पड़ोसी देश बांग्लादेश में छिपे हैं। यह दावा सूबे के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) अखिल कुमार शुक्ला ने किया।उन्होंने बताया कि त्रिपुरा के ग्रामीण बैंक अधिकारियों के अपहरण मामले में कोई उग्रवादी संगठन शामिल नहीं है।
इन अफसरों का 24 नवंबर को आत्मसमर्पण कर चुके उग्रवादियों और स्थानीय बदमाशों के गिरोह ने अपहरण किया था। हालांकि, अपहर्ताओं ने बंधकों के संबंधियों से 50,000 रुपये फिरौती मिलने के बाद 30 नवंबर को उन्हें छोड़ दिया था।डीजीपी ने कहा, इसमें आत्मसमर्पण कर चुके चार उग्रवादियों सहित नौ लोग शामिल थे। उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। उनके पास से 48.85 लाख रुपये और एक छोटा वाहन बरामद किया गया है। मामले में और लोगों की भी गिरफ्तारी हो सकती है।
यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस ने बंधकों को मुक्त कराने, अपहर्ताओं को गिरफ्तार करने और फिरौती की रकम वापस पाने के लिए पुलिस का आभार जताया है।इस बीच, नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (एनएलएफटी) ने कहा है कि वह प्रदेश की पुरानी राजनीतिक समस्या के अनुकूल और शांतिपूर्ण हल के लिए केंद्र सरकार के साथ वार्ता कर रहा है। ऐसे में संगठन की सामान्य गतिविधियों को अगली सूचना तक निलंबित कर दिया गया है।

Source:Agency