न्यायपालिका के इतिहास मे पहली बार जजों की PC, SC प्रशासन पर लगाया आरोप

By Jagatvisio :12-01-2018 08:28


इटावा. उत्तर प्रदेश में योगी सरकार बनने के बाद से भगवा रंग को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। राजधानी लखनऊ में हज हाउस के भगवाकरण के विवाद की आग अभी पूरी तरह से ठंडी भी नहीं हो पाई कि अब इटावा में शौचालयों को भगवा रंग में रंगने का मामला सामने आया है । लेकिन ये फैसला शासन की तरफ से नहीं बल्कि इटावा के अमृतपुर गांव के प्रधान और लोगों की सहमति से लिया गया है। गांव के निवासियों का कहना है कि शौचालयों को भगवा करने का फैसला सर्वसम्मति से लिया गया है और किसी को कोई आपत्ति नहीं है । लोगों के मुताबिक यह देखकर सीएम योगी खुश होंगे और क्षेत्र के विकास कार्यों में इजाफा होगा । बताते चलें कि यहां 350 शौचालय हैं जिनमें से 100 शौचालयों का भगवाकरण किया जा चुका है ।
अमृतपुर गांव के ग्राम प्रधान वेद पाल ने बताया कि शौचालयों को भगवा रंग में रंगने का फैसला सर्वसम्मती से लिया गया है । अब तक 350 में से 100 शौचालयों को भगवा कर दिया गया है और बाकियों को भी जल्द किया जाएगा । बताते चलें कि बीती 5 जनवरी को विधानसभा के पास हज राज्य समिति कार्यालय की दीवारों को भी भगवा कर दिया गया था, जिसका काफी विरोध हुआ था ।
इससे पहले हज हाउस की बाउंड्री हरे-सफेद रंग की थी। विवाद बढ़ने पर यूपी राज्य हज कमिटी के सेक्रेटरी आरपी सिंह ने इसके लिए ठेकेदार को जिम्मेदार ठहराया था और कहा था कि पुताई करने वाले ठेकेदार ने आदेशित रंग से इतर अलग गाढ़ा रंग इस्तेमाल किया।
 

Source:Agency