अतिथियों के जलपान पर उत्‍तराखंड सरकार ने खर्च कर दिए 68 लाख रुपये

By Jagatvisio :06-02-2018 08:03


उत्तराखंड में पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी की जबरदस्त जीत के बाद सत्ता संभालने वाली त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार ने अपने करीब 11 महीने के शासनकाल में 68 लाख रुपये केवल अतिथियों के जलपान और स्नैक्स पर खर्च कर दिए। सूचना के अधिकार तहत मांगी गई जानकारी से इस खर्च का खुलासा हुआ है।
हल्द्वानी के रहने वाले आरटीआई कार्यकर्ता हेमंत सिंह गौनियों द्वारा मांगी गई जानकारी के जवाब में उत्तराखंड सरकार ने बताया कि 18 मार्च को शपथ ग्रहण करने के बाद से अब तक 68,59,865 रुपये अतिथियों के स्वागत पर खर्च किए गए हैं। इसके तहत उन्हें जलपान और स्नैक्स परोसा गया। इस सरकारी खर्च पर अब लोग सोशल मीडिया में मुख्यमंत्री रावत से सवाल पूछ रहे हैं। 

चुनाव में मिली थी बंपर जीत 
बता दें, गत वर्ष 18 मार्च को रावत ने सूबे के 11वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली थी। 70 सदस्यों वाले उत्तराखंड विधानसभा में बीजेपी ने 57 सीटें जीती हैं। त्रिवेंद्र रावत के साथ 9 मंत्रियों ने भी शपथ ली थी। त्रिवेंद्र सिंह रावत संघ के साथ-साथ बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के करीबी माने जाते हैं। वह 2013 में बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव नियुक्त हुए। 

2014 आम चुनाव से पहले जब अमित शाह को यूपी का प्रभारी बनाया गया तब रावत ने सह-प्रभारी की जिम्मेदारी निभाई। झारखंड में विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी ने उन्हें राज्य का प्रभारी बनाकर भेजा था, जहां पार्टी ने जीत हासिल की। रावत ने डोईवाला विधानसभा सीट से कांग्रेस के हीरा सिंह बिष्ट को 24 हजार से ज्यादा मतों से हराया था। 2002 के बाद से इस विधानसभा सीट से यह उनकी तीसरी जीत है। 

संघ प्रचारक भी थे सीएम 
57 साल के रावत बीजेपी की तरफ से उत्तराखंड के सीएम बनने वाले पांचवें शख्स हैं। 2000 में जब उत्तर प्रदेश से अलग होकर उत्तराखंड वजूद में आया तब बीजेपी के नित्यानंद स्वामी सूबे के पहले मुख्यमंत्री बने थे। मार्च 2001 में बीजेपी ने स्वामी को हटाकर बी.एस. कोश्यारी को मुख्यमंत्री बनाया था। रावत उत्तराखंड के प्रभावशाली ठाकुर समुदाय से आते हैं। उन्होंने 1983 से 2002 तक संघ प्रचारक के तौर पर काम किया। 

Source:Agency