किसान की 15 एकड़ गन्ने की फसल जलकर खाक, लाखों का नुकसान

By Jagatvisio :10-02-2018 08:14


लोरमी, बिलासपुर । ग्राम सहसपुर व चिल्फी में छह किसानों के गन्ने की फसल में आग लग गई। इससे पद्रंह एकड़ की फसल पूरी तरह से जलकर खाक हो गई। आग बुझाने के लिए दमकल वाहन की मांग की गई थी लेकिन समय पर नहीं पहुंचने से गन्ने की फसल जलकर खाक हो गई। इससे लगभग 45 लाख रुपए की किसानों की क्षति होने पर उन्होंने मुआवजे की गुहार लगाई है।

जानकारी के अनुसार ग्राम सहसपुर निवासी किसान मोहित साहू पिता सदाराम, अश्वनी साहू पिता बलदेव, घनश्याम साहू पिता सदई राम साहू, केशव पटेल पिता परदेशी पटेल, कृष्णा साहू पिता मैतूराम साहू, संतोष पिता गौकरण निवासी खपरीकला, खेत में गन्ना का फसल लगाए थे।

पास में ही किसी अन्य किसान के खेत है जो खरपतवार को नष्ट करने के लिए आग लगाया था। आग पूरी तरह बुझने वाली ही थी कि क्षेत्र में शाम को हवा चली जिसके चलते आग एक खेत से दूसरे खेत होकर भयानक रूप ले ली और पद्रंह एकड़ गन्ने की फसल में फैल गई। आग लगते ही फायर ब्रिगेड की मदद चाही गई लेकिन तत्काल नहीं पहुंचने से आग तेजी के साथ फैलते गई और पूरी तरह से फसल को अपने चपेट में ली।

घटना से किसान चिंतित हो गए हैं क्योंकि क्षेत्र सूखा पड़ा था। कर्ज से बचने के लिए किसानों ने गन्ने की फसल लिया था लेकिन आगजनी की भेंट चढ़ गई। बुझा रहे थे तो दूसरी तरफ उनकी आंखों से आंसू बह रहे थे क्योंकि गन्ने की फसल काटने की कगार पर पहुंच चुका था।

कुछ किसानों ने अपने फसल काटना भी शुरू कर दिया था। गन्ने की फसल जलने से घर मायूसी छायी हुई है क्योंकि फसल जलने से किसान कर्ज से लद चुके हैं। इधर आग जब गन्ने की फसल पर लगी तो धीरे-धीरे कर भयानक रूप में फैल गई जिस खेत में सबसे पहले आग लगी उस फसल को किसान, मजदूर लगाकर कटवा रहे थे, आग की लपटें उन तक पहुंचने ही वाली थी तभी आसपास के अन्य मजदूरों ने आवाज लगाकर उनको वहां से भगाया, अगर आग की लपटें उन तक पहुंच जाती तो गंभीर हादसा हो सकता था।

नहीं पहुंची दमकल

आग लगते ही दमकल की गाड़ी को फोन कर बुलाया गया था। लेकिन आग से गन्ने की फसल जलकर खाक हो गई लेकिन अंत तक गाड़ी नहीं पहुंच पाई। दमकल पहुंच जाती तो कुछ हद तक आग पर काबू पाया जा सकता था लेकिन न तो दमकल पहुंची और न ही कोई प्रशासनिक अधिकारी पहुंचे।

Source:Agency