छग में भी 14 अप्रैल से चलेगा राष्ट्र व्यापी ग्राम स्वराज अभियान

By Jagatvisio :13-04-2018 07:42


भारतीय संविधान के निर्माता बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर शनिवार 14 अप्रैल को छत्तीसगढ़ में भी ग्राम स्वराज अभियान का शुभारंभ होने जा रहा है। यह अभियान पांच मई तक चलेगा। इस दौरान प्रदेश की सभी दस हजार 971 ग्राम पंचायतों में अलग-अलग तारीखों में आठ विशेष दिवसों का भी आयोजन किया जाएगा। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राज्य के सभी लोगों से और खासतौर पर ग्रामीणों से ग्राम स्वराज अभियान के कार्यक्रमों में तथा अपनी-अपनी ग्राम पंचायतों के अंतर्गत ग्राम सभाओं में शामिल होने का आव्हान किया है।
    मुख्यमंत्री ने इस बात पर भी खुशी जताई है कि राष्ट्रव्यापी ग्राम स्वराज अभियान के प्रथम दिवस पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी स्वयं छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के ग्राम जांगला आ रहे हैं, जहां वे आदिवासियों के सामाजिक-आर्थिक विकास की विभिन्न परियोजनाओं के शुभारंभ के साथ प्रदेशवासियों को सम्बोधित भी करेंगे। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री ने देश के 101 ऐसे जिलों का चयन आकांक्षी जिलों (एस्पीरेशनल जिलों) के रूप में किया है, जो वर्तमान में विकास की दृष्टि से तुलनात्मक रूप से अधिक पिछड़े हुए हैं, लेकिन जहां विकास की अपार संभावनाएं हैं, इन्ही जिलों में बीजापुर सहित छत्तीसगढ़ के दस जिले भी शामिल हैं। इनमें बीजापुर को मिलाकर बस्तर संभाग के सात जिले और राजनांदगांव, महासमुन्द तथा कोरबा को भी शामिल किया गया है।
    केन्द्र सरकार से प्राप्त निर्देशों के अनुरूप राष्ट्र व्यापी ग्राम स्वराज अभियान के तहत पहला दिन 14 अप्रैल को देश भर में सामाजिक न्याय दिवस के रूप में मनाया जाएगा। छत्तीसगढ़ सरकार के पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग द्वारा 14 अप्रैल को राज्य की सभी 10971 ग्राम पंचायतों में ग्रामीणों को रेडियो और टेलीविजन पर ग्राम स्वराज अभियान के संबंध में प्रधानमंत्री का संदेश सुनाने की व्यवस्था की जा रही है। इसके अंतर्गत टेलीविजन पर लोग प्रधानमंत्री के जांगला (बीजापुर) की आमसभा का सीधा प्रसारण भी देख सकेंगे। इसके अलावा 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर भी ग्रामीणों को प्रधानमंत्री का उद्बोधन सुनाने की व्यवस्था की जा रही है।
    ग्राम स्वराज अभियान के तहत 14 अप्रैल से पांच मई के बीच छत्तीसगढ़ के 27 में से 11 जिलों के 346 चयनित गांवों में पात्रता रखने वाले शत-प्रतिशत हितग्राहियों को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की सर्वोच्च प्राथमिकता वाली सात फ्लैगशिप योजनाओं का फायदा दिलाने का भी लक्ष्य है। इसके लिए इन गांवों में विशेष शिविर लगाए जाएंगे। जिन प्रमुख योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए गांवों का चयन किया गया है, उनमें रसोई गैस कनेक्शन वितरण के लिए प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना, प्रधानमंत्री सहज बिजली-हर घर योजना (सौभाग्य), एलईडी बल्ब वितरण के लिए उजाला योजना, बैंक खातों के लिए प्रधानमंत्री जन-धन योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना और समस्त गर्भवती माताओं तथा दो साल से कम उम्र के सभी बच्चों के टीकाकरण के लिए मिशन इंद्रधनुष कार्यक्रम शामिल हैं। ये 346 गांव ऐसे हैं, जहां तुलनात्मक रूप से गरीबों की संख्या अधिक है। इस आधार पर इन गांवों का चयन किया गया है, जहां शत-प्रतिशत हितग्राहियों को प्रधानमंत्री की सातों फ्लैगशिप योजानाओं का लाभ दिलाया जाएगा। इनमें रायपुर जिले के 102, बिलासपुर जिले के 96, जांजगीर-चांपा जिले के 70, दुर्ग जिले के 27, रायगढ़ जिले के 21, कबीरधाम जिले के 16, राजनांदगांव जिले के 06, कोरबा जिले के 03, महासमुन्द और धमतरी जिले के दो-दो तथा जशपुर जिले का एक गांव शामिल हैं।
    पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री श्री अजय चंद्राकर ने छत्तीसगढ़ के सभी सांसदों, विधायकों और जिला पंचायत अध्यक्षों को चिट्ठी भेजकर 14 अप्रैल से 5 मई तक चलने वाले ग्राम स्वराज अभियान में सक्रिय सहयोग का अनुरोध किया है। श्री चंद्राकर ने पत्र में लिखा है कि भारत सरकार के पंचायत राज मंत्रालय ने यह अभियान चलाने का निर्णय लिया है। सामाजिक समरसता को बढ़ावा देना, ग्रामीण गरीब जनता पर सरकार की पहुंच बनाना, योजनाओं के क्रियान्वयन के बारे में जनता की प्रतिक्रिया लेना, नवाचार, किसानों की आमदनी दोगुनी करने पर बल देना, आजीविका के अवसरों को बढ़ावा देना और स्वच्छता तथा पंचायती राज संस्थाओं को मजबूत बनाने जैसी राष्ट्रीय प्राथमिकताओं पर जोर देना इस अभियान का मुख्य उद्देश्य है। उन्होंने सांसदों, विधायकों और जिला पंचायत अध्यक्षों तथा समस्त पंचायत राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों से ग्राम स्वराज अभियान के तहत मनाए जाने वाले आठ प्रमुख दिवसों में भी सक्रिय भागीदारी की अपील की है।
    श्री चंद्राकर ने कहा है कि पहले दिन 14 अप्रैल को सामाजिक न्याय दिवस, 18 अप्रैल को स्वच्छ भारत मिशन दिवस, 20 अप्रैल को उज्ज्वला दिवस, 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायत राज दिवस, 28 अप्रैल को ग्राम स्वराज दिवस, 30 अप्रैल को आयुष्मान भारत दिवस, दो मई को किसान कल्याण दिवस और पांच मई को आजीविका दिवस का आयोजन इस अभियान के तहत किया जाएगा। पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री आर.पी. मंडल ने राज्य के सभी जिला कलेक्टरों को ग्राम स्वराज अभियान का सुव्यवस्थित आयोजन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री की फ्लैगशिप योजनाओं के लिए चयनित 11 जिलों के कलेक्टरों को भी पत्र लिखा है, जिसमें उनसे चयनित 346 गांवों में इन योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए विकासखण्ड स्तर पर नोडल अधिकारी नामांकित करने के लिए कहा गया है।
 

Source:Agency