जालसाज ADO की संपत्ति को सीज करने की तैयारी

By Jagatvisio :11-05-2018 07:16


रायपुर। बेरोजगारों को नौकरी दिलाने का झांसा देकर करोड़ों की ठगी मामले में गिरफ्तार कांकेर कृषि विश्वविद्यालय एवं रिसर्च सेंटर के परिक्षेत्र विकास अधिकारी (एडीओ) शंकर सागर माली (59) की संपत्ति सीज करने की तैयारी है।

उसके खिलाफ अब तक ठगी के शिकार नौ लोगों ने कबीर नगर थाने में एफआईआर दर्ज कराई है, जबकि पुलिस की तफ्तीश में 50 से अधिक बेरोजगारों से पैसा ठगने की जानकारी मिली है। ठगी के पैसों से उसने संपत्ति खरीदी।

बैंकों से उसके नाम के खाते में जमा रकम की जानकारी ली जा रही है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि शार्टकट में पैसे कमाने के चक्कर में एडीओ शंकर सागर माली जिन जिलों में पदस्थ रहा, वहां पर उसने अपने परिचितों को मंत्रालय के विभिन्न विभागों में ऊंची पहुंच का हवाला देकर आसानी से नौकरी दिलवाने का झांसा दिया।

रायपुर के अलावा सरगुजा, कांकेर समेत कई अन्य जिलों के 50 से अधिक बेरोजगारों से उसने पैसे ऐंठे। एक का पैसा दूसरे को देकर करता रहा शांत पुलिस के मुताबिक पूछताछ में जालसाज एडीओ ने स्वीकार किया कि लाखों रुपए कमाने के लालच में आकर उसने फर्जीवाड़े को अंजाम दिया।

एक के बाद एक बेरोजगार को झांसा देकर उनसे पैसे लेता रहा। जब एक भी बेरोजगारों को नौकरी नहीं मिली तो उन्होंने पैसे वापस करने दबाव बनाया। फंसने के डर से वह एक का पैसा दूसरे को और दूसरे का पैसा तीसरे पीड़ित को लौटाकर शांत करता रहा। उसे यह कतई अंदाजा नहीं था कि वह इस तरह से कानून के फंदे में फंस जाएगा।

चेक थमाकर बचने की कोशिश की थी एडीओ शंकर सागर माली ने मनोहरलाल मिश्रा से तीन लाख, माया फरिकर से तीन लाख, रूखमणी मिश्रा से एक लाख, कामेश्वरी वर्मा से तीन लाख, टामेश्वरी वर्मा से एक लाख, जागेश्वर साहू से एक लाख, डूमन साहू से एक लाख रुपये ऐंठा था।

जब किसी को नौकरी नहीं मिली तो उन्होंने पैसे वापस करने को कहा। शिकायत पुलिस तक कोई न कर दे, इस डर से उसने सभी को बैक डेट का चेक थमा दिया। पीड़ितों ने चेक भुनाने उसे बैंक में जमा किया तो खाते में रकम न होने के कारण एक-एक करके सभी चेक बैंक ने बाउंस कर दिया।

Source:Agency