अर्पण ने विद्या बालन अपना गुडविल एम्बेसेडर बनाया

By Jagatvisio :17-05-2018 08:41


बाल यौन शोषण के मुद्दे पर काम कर रहे मुंबई के अग्रणी गैर-लाभकारी संगठन ने बॉलीवुड स्टार विद्या बालन को गुडविल एम्बेसेडर के रूप में अपने साथ शामिल किया है। विद्या बालन ने फिल्म कहानी-2 में बाल यौन शोषण से बचाव करने वाली दुर्गा रानी की भूमिका निभाई थी, जो एक ऐसी बच्ची को बचाने के लिए काम करती है, जिसका चाचा ही उस बच्ची के यौन शोषण का जिम्मेदार होता है।
 
राष्ट्रीय बाल शोषण अध्ययन 2007 के मुताबिक बाल यौन शोषण यानी चाइल्ड सेक्स एब्यूज (सीएसए) देश के आधे से ज्यादा बच्चों के लिए रोजमर्रा की सच्चाई है। बाल यौन शोषण की रिपोर्टों के साथ, हम भी जानते हैं कि आज भी परिदृश्य इससे बहुत अलग नहीं है। इसके बावजूद आज भी ये एक ऐसा मुद्दा है जिस पर मुश्किल से संवाद किया जाता है। एक सीमित स्वीकार्यता है कि बाल यौन शोषण होता है और इसका बच्चों पर बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ता है। बाल यौन शोषण जैसी घटना के बाद बच्चा पोस्ट ट्रायूमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (च्ज्ैक्) का शिकार हो सकता है, जिससे वह अवसाद, चिंता, व्यसन और आत्मघाती विचारों का कारण बन सकता है। अगर वह इससे ठीक नहीं हुआ तो वयस्कता के ये विकार बच्चे का जीवन को बाधित कर सकते हैं।

मुंबई का अर्पण भारत के सबसे बड़े गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) में से एक है, जिसमें 100 से अधिक सामाजिक कार्यकर्ता और परामर्शदाता बच्चों और वयस्कों को सीएसए के मुद्दे को हल करने के लिए अपनी रोकथाम और हस्तक्षेप सेवाएं प्रदान करते हैं। पिछले 10 वर्षों में अर्पण सीधे 1,88,000 से अधिक बच्चों, किशोरों और वयस्कों तक पहुंचा है। अर्पण ने पूरे भारत में 3,500 से अधिक पेशेवरों को प्रशिक्षित किया है और 4,60,000 से अधिक बच्चों और वयस्कों को अपनी सेवाओं से प्रभावित किया है। इस गैर-सरकारी संगठन श्अर्पणश् का मकसद स्कूलों और समुदायों में पर्सनल सेफ्टी प्रोग्राम जरिए बाल यौन शोषण पर नियंत्रण पाना है। ये संगठन प्रासंगिक साझेदारों, नीति नियंताओं के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करता है, ताकि व्यवस्थागत बदलाव लाकर चाइल्ड सेक्स एब्यूज के बाद प्रभावितों को अपनी परामर्श सेवाएं दें।  

अर्पण के साथ अपने उनके संबंध के बारे में बात करते हुए विद्या बालन ने कहा, मैं सबसे पहले अपनी फिल्म कहानी-2 की शूटिंग के दौरान अर्पण से जुडी थी, ताकि इस भूमिका को आत्मसात किया जा सके।  मैं इस बात पर आश्चर्यचकित थी कि इस मुद्दे पर अर्पण इस मुद्दे पर बेहद गंभीरता से अपना काम कर रहा है। यहाँ बाल यौन शोषण से बचे बच्चों की उनके आयु वर्ग और शोषण की कैटेगरी के मुताबिक देखभाल की जाती है और उन्हें ठीक किया जाता है। समाज के रूप में, यह महत्वपूर्ण है कि हम यह देखें कि इस तरह की सामाजिक बुराई को कैसे रोका जा सकता है और हममें से प्रत्येक कैसे बच्चों को सुरक्षित रखने में एक भूमिका निभाता है। वर्तमान परिदृश्य को देखते हुए हमारे देश में, अब हम सभी को बाल यौन दुर्व्यवहार को रोकने की दिशा में कदम उठाने और काम करने की आवश्यकता है।

अर्पण के संस्थापक और सीईओ सुश्री पूजा तपरिया ने कहा, अर्पण के लिए विद्या बालन जैसी प्रसिद्द अभिनेत्री का श्गुडविल एंबेसडरश् बनना हमारा सम्मान है। विद्या की भूमिका हमेशा प्रेरणादायक और एक्शन ओरिएंटेड होती रही है। कहानी-2 के निर्माण के दौरान में उनके साथ काम करना भी मारा विशेषाधिकार था। फिल्म में उनकी भूमिका दुर्गा रानी सिंह की थी, जो बाल यौन शोषण के खिलाफ कड़ी होने वाली एक पॉवरफुल ताकत थी। जिन्हें मूक बढ़ा नहीं जा सकता। लेकिन, वास्तव में बाल यौन शोषण से एक लड़की की रक्षा करना कार्रवाई प्रेरणादायक है और हम सभी के लिए संदेश भी। फिल्म में उनकी भूमिका की तरह, पिछले कुछ वर्षों में, अर्पण ने बाल यौन दुर्व्यवहार की रोकथाम में कई बच्चों और वयस्कों के जीवन में एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। हमारी गुडविल एम्बेसेडर के रूप में विद्या बालन से हमें आशा है कि बाल यौन शोषण की रोकथाम और सुरक्षित माहौल बनाने की दिशा में हम सक्रिय भूमिका निभाएंगे, ताकि हमारे बच्चे जो हमारे देश का भविष्य हैं बाल यौन शोषण का शिकार न हों! उनका बचपन सुरक्षित और खुशहाल हो! 
 
जब पूछा गया कि बाल यौन शोषण के मुद्दे पर आपका क्या संदेश है,, विद्या ने कहा, सभी को मेरा संदेश यह है कि ऐसा नहीं लगता कि बाल यौन शोषण ऐसा कुछ है जो दूसरे बच्चों के साथ ही होता है। दुर्भाग्यपूर्ण सच यह है कि यह आपके बच्चे के साथ भी हो सकता है! हम सभी को सतर्क रहने की जरूरत है। जब हम संकेत देखते हैं तो हमें सभी को जागरूक होने और स्वीकार करने की आवश्यकता होती है। हमें अपने बच्चों को शिक्षित करने की जरूरत है, ताकि जब उन्हें असुरक्षित स्थिति का अनुभव हो, तो उन्हें दूर जाने और एक भरोसेमंद वयस्क से मदद लेने के लिए पर्याप्त अधिकार दिया जाता है।

 2008 में एक नवजात संगठन के रूप में शुरू हुआ यह कार्यकरण लगभग 600 लोगों तक पहुंच गया है। येअब एक ऐसे अब एक ऐसे संगठन के रूप में उभरा है जो श्बाल यौन शोषण से मुक्ति की दृष्टि के साथ सालाना 56,000 से अधिक लोगों तक पहुंचता है। श्री राकेश झुनझुनवाला (भारत), श्री कार्ल-जोहान पर्सन (सीईओ, एचएं एम वर्ल्डवाइड, स्वीडन), गोल्डमैन सैक्स (इंडिया), इरोज इंटरनेशनल मीडिया (इंडिया), द मार्शल फाउंडेशन (फ्रांस), जीएमएसपी फाउंडेशन ( यूके), द ग्लोबल फंड फॉर चिल्ड्रेन (यूएसए), अजीम प्रेमजी फिलैथ्रोपिक इनिशिएटिव्स (इंडिया), एटीई और चंद्र फिलैथ्रोपिक फाउंडेशन (इंडिया), ब्रिटिश एशियाई ट्रस्ट (यूके), रिलायंस फाउंडेशन (इंडिया), आदित्य बिड़ला फाइनेंस लिमिटेड (इंडिया), बजाज ऑटो लिमिटेड (भारत) दूसरों के बीच। विद्या बालन के साथ एक सद्भावना राजदूत के रूप में, यहां उम्मीद है कि अर्बन इस समस्या के आसपास वार्तालापों को बढ़ाने में सक्षम होने में कई गुना बढ़ता है, जबकि बाल रोकथाम और जमीनी स्तर पर और व्यवस्थित स्तर पर उपचार करने पर परिश्रमपूर्वक काम करते हुए।

Source:Agency