भय्यू महाराज ने इंदौर में खुदकुशी की, घर पर खुद को मारी गोली

By Jagatvisio :12-06-2018 10:20


इंदौर.अध्यात्मिक गुरु भय्यू महाराज (50) ने मंगलवार को यहां अपने घर पर गोली मारकर खुदकुशी कर ली। उन्हें शहर के बॉम्बे अस्पताल ले जाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने बताया कि वहां पहुंचने से आधा घंटे पहले ही उनकी मौत हो चुकी थी। जमींदार परिवार से ताल्लुक रखने वाले भय्यू महाराज ने मॉडलिंग से करियर शुरू किया था। बाद में आध्यात्म की राह पर चले गए। घटना की सूचना फैलते ही सैकड़ों की संख्या में उनके समर्थक अस्पताल पहुंच गए। मध्य प्रदेश सरकार ने कुछ महीने पहले ही उन्हें राज्यमंत्री का दर्जा देने की पेशकश की थी, जिसे उन्होंने ठुकरा दिया था।

दाईं कनपटी पर गोली लगी, अस्पताल पहुंचने से पहले मौत
- सीएसपी जयंत राठौर के अनुसार भय्यू महाराज ने सिल्वर स्प्रिंग स्थित उनके घर में खुद को गोली मारी। उनके सिर पर गोली लगी थी।
- बॉम्बे हॉस्पिटल के डॉ. राहुल पराशर के मुताबिक भय्यू महाराज को जब अस्पताल लाया गया, उससे आधा घंटे पहले ही उनकी मौत हो चुकी थी। उन्हें दाईं कनपटी पर गोली लगी थी।

पहली पत्नी की मौत के दो साल बाद की थी दूसरी शादी
- भय्यूजी महाराज की पहली पत्नी माधवी का नवंबर 2015 में पुणे में निधन हो गया था। वे महाराष्ट्र के औरंगाबाद की रहने वाली थीं। पहली शादी से उनकी एक बेटी कुहू हैं, वो पुणे में पढ़ाई कर रही हैं।
- 30 अप्रैल 2017 को मध्यप्रदेश के शिवपुरी की डॉ. आयुषी के साथ दूसरी शादी की थी।

खुद को कर्ज में डूबा बताकर सार्वजनिक जीवन से संन्यास लिया था
- महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश में खास जगह बना चुके भय्यू महाराज ने खुद को कर्ज में डूबा हुआ बताया था। उन्होंने सार्वजनिक जीवन से संन्यास लेने की घोषणा की दी थी। संन्यास के बावजूद उनके सार्वजनिक और आध्यात्मिक कार्य संचालित होते रहे। सिंहस्थ से पहले हुए धर्म सम्मेलन में सरकार द्वारा नहीं बुलाने पर वे नाराज हो गए थे।

राज्य मंत्री का दर्जा ठुकराया था
- मध्यप्रदेश सरकार के 2 जुलाई 2017 को 6.67 करोड़ पौधे लगाने के दावे को महाघोटाला करार देकर कुछ संतों ने ‘नर्मदा घोटाला रथ यात्रा’ निकालने का ऐलान किया था। इनमें नर्मदानंदजी, हरिहरानंदजी, कंप्यूटर बाबा, भय्यू महाराज और पं. योगेंद्र महंत शामिल थे। 
- राज्य सरकार ने अप्रैल 2018 में इन सभी को राज्यमंत्री का दर्जा दिया। हालांकि भय्यू महाराज ने सरकार के इस ऑफर को लेने से मना कर दिया। उन्होंने कहा था कि वे नर्मदा मैया की सेवा बिना किसी पद के साथ भी करते रहेंगे।

मोदी, अण्णा महाराज का अनशन तुड़वाने पर देशभर में सुर्खियों में आए
- भय्यू महाराज 2011 में तब चर्चा में तब आए जब अन्ना हजारे के अनशन को खत्म करवाने के लिए तत्कालीन यूपीए सरकार ने अपना दूत बनाकर भेजा था। बाद में अन्ना ने उनके हाथ से जूस पीकर अनशन तोड़ा था। उस वक्त उनके साथ महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख भी थे।
- प्रधानमंत्री बनने के पहले सितंबर 2011 में गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी सद्भावना उपवास पर बैठे थे। तब उपवास खुलवाने के लिए उन्होंने भय्यू महाराज को आमंत्रित किया था।

प्रतिभा पाटिल से शरद पवार तक आ चुके हैं इनके आश्रम
- पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देखमुख, शरद पवार, लता मंगेशकर, उद्धव ठाकरे और मनसे के राज ठाकरे, आशा भोंसले, अनुराधा पौडवाल, फिल्म एक्टर मिलिंद गुणाजी भी उनके आश्रम आ चुके हैं।


जमींदार परिवार से रखते थे ताल्लुक
- 1968 को जन्मे भय्यू महाराज का मूल नाम उदयसिंह देखमुख था। वे शुजालपुर के जमींदार परिवार से ताल्लुक रखते थे।
- भय्यू महाराज ने कभी कपड़ों के एक ब्रांड के विज्ञापन के लिए मॉडलिंग भी की थी। सद्गुरु दत्त धार्मिक ट्रस्ट उनके ही देखरेख में चलता था। उनका मुख्य आश्रम इंदौर के बापट चौराहे पर है।

Source:Agency