जापान ने क्यों घटाई वयस्क होने की उम्र

By Jagatvisio :14-06-2018 08:09


जापान में वयस्क होने उम्र कम कर दी गई है. साल 2022 से अमल में आने वाले इस क़ानून के तहत वयस्क होने की उम्र 20 साल से घटाकर 18 साल कर दी गई है. 1876 के बाद पहली बार ऐसा हो रहा है कि जापान में वयस्क होने की उम्र में बदलाव किया जा रहा है. जापान में 20 साल से पहले शादी करने के लिए लड़के-लड़की को अपने घरवालों की इजाज़त की ज़रूरत होती है. शादी करने की क़ानूनी उम्र की बात करें तो 18 साल के पुरुष और 16 साल की लड़कियां शादी कर सकती हैं. लेकिन ऐसा करने के लिए घरवालों की सहमति ज़रूरी है.

सिविल कोड में अब इस बदलाव के बाद 18 साल की उम्र वाले युवाओं को शादी के लिए अपने माता-पिता की अनुमति की ज़रूरत नहीं पड़ेगी. इसके साथ ही वे घरवालों की सहमति के बिना क्रेडिट कार्ड और लोन भी ले सकते हैं. अगर वे पासपोर्ट लेना चाहें तो ले सकते हैं, लेकिन उसकी मियाद सिर्फ़ 10 साल रहेगी. क़ानून में इस संशोधन के साथ ही 20 अन्य क़ानूनों में भी संशोधन किया गया है, जिसमें राष्ट्रीयता और चार्टड अकाउंटेंट जैसे पेशों को लेकर भी संशोधन हुए हैं.

जापान के 18 साल के युवा इस क़ानून संशोधन के बाद भी शराब पीने, जुआ खेलने और बच्चे गोद लेने जैसे कामों से वंचित रहेंगे. इन सभी कामों के लिए उन्हें 20 साल की उम्र तक इंतज़ार करना पड़ेगा. सरकार के इस क़दम के बाद जापान के सोशल मीडिया पर लोग उत्साहित नज़र नहीं आ रहे हैं. ट्विटर पर एक व्यक्ति ने लिखा, "18 साल होने के बाद मैं वयस्क हो जता हूं, लेकिन मैं शराब नहीं पी सकता, जुआ नहीं खेल सकता. ऐसे में इसका कोई मतलब नहीं है." वहीं, एक अन्य सोशल मीडिया यूज़र का कहना है कि वो 18 साल की उम्र में लोन तो ले सकता है, लेकिन शराब प्रतिबंधित रहेगी.

आख़िर ये बदलाव क्यों हुआ?

जापान में कई दशकों से वयस्क होने की क़ानूनी उम्र को लेकर बहस जारी है. साल 2009 में जापानी क़ानून मंत्रालय की लेजिस्लेटिव काउंसिल ने अपनी रिपोर्ट में ये सुझाव दिया था कि वयस्क होने की उम्र को 18 साल कर दिया जाना चाहिए. सत्तारूढ़ दल के सदस्यों का कहना है कि इससे जापान में बूढ़े होते समाज की गिरती जन्म दर को सुधारने में मदद मिलेगी. साल 2015 में जापान में मतदान करने की आयु को 20 से कम करके 18 साल कर दिया गया था.

इस क़ानून में हुए संशोधन के मुताबिक़, ये क़ानून साल 2022 से अमल में आएगा. ऐसे में इस समय 18 साल की उम्र वाले युवाओं को क़ानूनी रूप से 20 साल तक के होने का इंतज़ार करना होगा. इस तरह से जापान में इस समय जिन बच्चों की उम्र 14 साल या उससे कम है, वह इस बदलाव का फ़ायदा उठाने वाले पहले जापानी युवा बनेंगे.
 

Source:Agency