टेलिकॉम के बाद अब रिटेल में ऐमजॉन और वॉलमार्ट को पटकनी देगा रिलायंस

By Jagatvisio :06-07-2018 07:30


टेलिकॉम सेक्टर में तहलका मचाने के बाद रिलायंस इंटस्ट्रीज लिमिटेड ने अब रिटेल सेक्टर में कदम रखते हुए ऐमजॉन और वॉलमार्ट जैसी कंपनियों से टक्कर लेने की तैयारी कर ली है। रिलायंस ने ऑनलाइन और कन्वेंशनल शॉपिंग का मिला-जुला प्लैटफॉर्म बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। देश के सबसे रईस शख्स मुकेश अंबानी ने गुरुवार को कंपनी की सालाना मीटिंग में कहा कि रिलायंस आने वाले दिनों में हाईब्रिड और ऑनलाइन टु ऑफलाइन न्यू कॉमर्स प्लैटफॉर्म पर ग्रोथ का सबसे बड़ा अवसर देख रहा है। 
कंपनी के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा कि इसके लिए ग्रुप की कंपनियां रिलायंस रिटेल लिमिटेड और रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड मिलकर काम करेंगे। यही नहीं कंपनी ने 15 अगस्त को फाइबर बेस्ड ब्रॉडबैंड सर्विस की भी मेगा लॉन्चिंग की तैयारी कर ली है। माना जा रहा है कि मोबाइल सर्विसेज की तरह की रिलायंस की ओर से इस सेक्टर में भी प्रतिद्वंद्वी कंपनियों को बड़ी चुनौती दी जा सकती है। 

जानें, ऐमजॉन के सबसे बड़ी ऑनलाइन रिटेलर कंपनी

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट में रिसर्च फर्म ई-मार्केटर के हवाले से कहा गया है कि आने वाले दिनों में भारत में ई-कॉमर्स का कारोबार तेजी से बढ़ेगा। 2018 में ई-रिटेल का कारोबार 32.7 अरब डॉलर है, जो महज 4 साल यानी 2022 तक 72 अरब डॉलर तक पहुंच सकता है। अंबानी ने कहा कि रिटेल से लेकर रिफाइनिंग तक के सेक्टर में काम करने वाला रिलायंस समूह मोबाइल और फाइबर ब्रॉडबैंड इन्फ्रास्ट्रक्चर में 2.5 लाख करोड़ रुपये तक का निवेश करने के बाद ऑनलाइन मार्केट में दखल देने की तैयारी में है। 

बाकी बड़ी घोषणाएं 
-मुकेश अंबानी ने बताया कि जियो ने 22 महीनों में अपना कस्टमर बेस दोगुना (21.5 करोड़) बढ़ा लिया है। अभी भारत में जियो फोन के 2.5 करोड़ से अधिक यूजर्स हैं। 
-अंबानी ने बताया कि पिछले साल 2% की तुलना में वित्त वर्ष 2018 में जियो के कंसॉलिडेट EBIDATA और रिटेल में 13% बढ़ा है। 
-मुकेश अंबानी के बेटे आकाश अंबानी ने कहा कि MBPS के दिन गए, आज का समय GBPS का है। 
-जियो का रेवेन्यू 69,000 करोड़ के आंकड़े को पार कर गया है। 
-आकाश अंबानी ने कहा कि अब आपका घर पूरी तरह से वाई-फाई कवरेज में होगा, हर उपकरण, प्लग पॉइंट और स्विच स्मार्ट बन जाएंगे। अब पास बड़ी आसानी से कैमरे के जरिए 24X7 सुरक्षा निगरानी कर सकेंगे। 

Source:Agency