ग्रामोफोन में निवेश से उम्मीद

By Jagatvisio :06-07-2018 08:54


हाल ही में सिलिकॉन इंडिया स्टार्ट अप सिटी मैगजीन द्वारा आयोजित स्टार्टअप-2018 अवॉर्ड समारोह में “ग्रामोफोन ऐप” को बेस्ट एग्रीटेक स्टार्ट-अप 2018 से सम्मानित किया । ग्रामोफोन ऐप के संस्थापक निशांत वत्स, तौसीफ खान, हर्षित गुप्ता व आशीष सिंह ने वर्तमान किसानों की समस्याओं को देखते हुए उनके त्वरित समाधान हेतु इस ऐप को लांच है।
जैसा कि आप अखबारों में पढ़ते आ रहे हैं कि जो भी स्टार्ट-अप एक अच्छा आइडिया लेकर आता है एवं उसमें भविष्य में अच्छा करने की क्षमता होती है (जैसे कि च्ंलज्उ, थ्सपचांतज एवं च्वसपबल ठं्रंत) वो बड़े बड़े निवेशकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं उसी तरह निवेशक इस ऐप की तरफ आकर्षित हो रहे हैं, वे इसमें भविष्य में बहुत अच्छा करने की क्षमता को देखते हुए, निवेश संभावनाओं को देखते हैं एवं अधिकतम लाभ की उम्मीद रखते हैं। 
जिस प्रकार से हमारे प्रधानमंत्री का ध्यान किसानों एवं उनकी समस्याओं की तरफ है एवं प्रौद्योगिकी भी अब कृषि विभाग में अपने पैर पसार रही है, निवेशक अन्य उद्योगिक क्षेत्रों के साथ अब एग्रीटेक में बेहतर भविष्य की संभावनाओं को देख रहे हैं। निवेशक हमेशा ही ऐसे क्षेत्रों में निवेश करना चाहते हैं(या भविष्य देखते हैं) जो भीड़ से हटकर हो और वो आम लोगों की मूलभूत समस्याओं का समाधान करते हो। 
एक टीवी न्यूज शो के दौरान सफल निवेशक एवं नौकरी डॉट कॉम के संस्थापक संजीव भीकचंदानी ने भी ग्रामोफोन ऐप के द्वारा किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए किए जा रहे अच्छे कार्य को एक बहुत ही बढ़िया स्टार्ट-अप का नाम दिया है। इसके साथ-साथ वे बताते हैं कि एग्रीटेक क्षेत्र में ऐसे अद्वितीय स्टार्ट-अप  में लाभ की संभावनाओं को बढ़ाती है, क्योंकि ये बाजार में एकदम नया है एंव इसमें प्रतिस्पर्धी भी कम होती है। पॉलिसी बजार व जोमेटो में सफल निवेश करने के बाद संजीव जी ने एग्रीटेक सेक्टर की ओर रूख मोड़ते हुए ग्रामोफोन में निवेश किया है। ग्रामोफोन को लेकर उनका रवैया बेहद आशावादी है क्योंकि इसमें भविष्य में लाभ की संभावनाओं को देखते हैं एवं इस ओर यह निश्चित ही अनोखा प्रयास हैं। अभी तक समस्त क्षेत्रों में एवं विषयों के लिए लाखों ऐप बनाए जा चुकें है लेकिन कृषि प्रधान कहे जाने वाले हमारे देश में ग्रामोफोन जैसे किसानों के लिए समर्पित ऐप की अत्याधिक आवश्यकता है। 
कृषि के क्षेत्र में क्रांति लाने वाले ग्रामोफोन ऐप का प्रमुख उद्देश्य - किसानों की समस्याओं का विशेषज्ञों द्वारा त्वरित समाधान करके उत्पादन क्षमता को बढ़ाना है। इस ऐप की सहायता से किसान सीधे विशेषज्ञों से अपनी समस्या या प्रश्न पूछ सकते हैं एव समाधान प्राप्त कर सकते हैं। यह ऐप बीज, दवाइयों, कीटनाशकों, कीट प्रकार, फसल चक्र, मौसम संबंधित जानकारी तथा मंडी भाव से संबंधित जानकारी भी प्रदान करता है जिससे किसान निर्धारित कर सकते है कि उन्हें कौन सी फसल बोनी है? कब बोना है? एवं फसल का रख रखाव कैसे करना है? किसानों की सहायता के लिए एक टोल फ्री नंबर 18003157566 रखा है ताकि किसान कभी भी इस पर निःशुल्क संपर्क करके अपनी समस्या का हलध्समाधान करवा सके। 
आज सूचना प्रोद्योगिकी ने प्रत्येक क्षेत्र में अपने पैर पसार लिए हैं तो कृषि क्षेत्र इससे अछूता कैसे रह सकता है हालांकि सूचना प्रोद्योगिकी का संपूर्ण उपयोग शहरों क्षेत्रों तक ही सीमित है, ग्रामीण क्षेत्रों में इसके प्रति जागरूकता के लिए प्रयास प्रारंभ हो चुके हैं, ग्रामोफोन जिसमें से एक है। यह ऐप किसानों को सूचना प्रौद्योगिकी से जोड़ने का एवं सटीक ताजा जानकारी देने का एक अनूठा प्रयास है। किसानों को सही जानकारी देने हेतु एवं उनके लिए इस ऐप को और सरल एवं सहज बनाने के निरंतर प्रयास जारी है ताकि किसान भाई सभी सुविधाओं का लाभ ले सकें।
 

Source:Agency