दमोह में हवा की नमी से रोज 1 हजार लीटर पानी बनाएगी मशीन

By Jagatvisio :14-09-2018 08:27


बनवार/दमोह। हवा में मौजूद नमी से पानी बनाने वाली प्रदेश की पहली अक्वो मशीन का गुरुवार को जिले के हरदुआ मानगढ़ गांव में सांसद प्रहलाद पटेल ने शुभारंभ किया। दो लाख रुपए लागत की यह मशीन इजराइल से आई है। जिसे देश के अलग-अलग हिस्सों में प्रयोग किया जा रहा है। यह मशीन 24 घंटे में डेढ़ हजार लीटर पानी बनाएगी। मशीन का लोकार्पण कर इसे पंचायत को समर्पित कर दिया गया।

अभी ग्रामीणों को नि:शुल्क पानी दिया जाएगा, लेकिन आगे चलकर शासन इसका शुल्क निश्चित करेगा। जबेरा जनपद के इस गांव में जल स्तर काफी नीचे पहुंच गया है। यहां जल संकट की सूचना मिलने पर सांसद प्रहलाद पटेल ने नलकूप खनन कराया था, लेकिन काफी गहराई के बाद भी पानी नहीं मिला। समस्या की सूचना सांसद के भाई पीएचई राज्यमंत्री जालम सिंह को हुई और उन्होंने विभाग को मशीन खरीदने के लिए प्रस्ताव तैयार करने निर्देश दिए। तीन माह पहले गांव पहुंची मशीन को लगातार टेस्टिंग के बाद अब चालू कर दिया गया है।

खास बातें

24 घंटे में बनाएगी एक हजार लीटर पानी

2 लाख रुपए लागत की है मशीन

50 पैसे प्रतिलीटर पानी बनाने का अधिकतम खर्च।

ग्राम पंचायत हरदुआ मानगढ़ की जनसंख्या करीब दो हजार है और मशीन से गर्मी के मौसम में एक और ठंड के मौसम में डेढ़ हजार लीटर ही पानी बनेगा। ऐसे में ग्रामीणों को पानी की पूर्ति किस तरह से की जाएगी, ये अभी स्पष्ट नहीं है। पंचायत अपने तरीके से एक खाका तैयार करेगी कि वह पूरे गांव को प्रतिदिन मानक तय करके पानी देगी या फिर अलग-अलग दिन तय किए जाएंगे। इस पंचायत के करके मोहल्ला में सबसे ज्यादा जलसंकट की स्थिति है, इसलिए मशीन भी इसी मोहल्ले में स्थापित की गई है, जिससे माना जा रहा है कि पहले यहां के लोगों को पानी दिया जाएगा।

स्थापित की गई इस मशीन को पीएचई विभाग ने ग्राम पंचायत के सुपुर्द किया है। इस मशीन की देखरेख की जिम्मा पंचायत का होगा। पंचायत के पास मशीन विक्रय करने वाले अधिकारियों व तकनीशियन के संपर्क नंबर होगे, किसी भी तरह की समस्या होने पर उनसे सीधा संपर्क रहेगा। सांसद श्री पटैल ने बताया कि इस मशीन में मेनुयली कुछ नहीं करना है, इसलिए इसमें ज्यादा देखरेख की जरूरत नहीं है।

उन्होंने बताया कि बिजली कंपनी के अधिकारियों ने भी इस मशीन को शुरू कराने में सहयोग किया। मशीन तक बिछाई जा रही लाइन के करीब एक दर्जन पोल तूफान में उखड़ गए थे, जिन्हें तेज गति से दोबारा लगाया गया। ये मशीन बिजली से चलेगी, इसलिए नियमित सप्लाई के लिए अलग से लाइन बिछाई गई है, ताकि मशीन बंद न रहे। इस मौके पर जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटैल, पंचायत सरपंच दुर्जन सिंह, पीएचई एसडीओ एमके उमारिया उपस्थित रहे।

Source:Agency